Career Margdarshan
 
Home > What We Do > Career Margdarshan

About Career Margdarshan

विद्वान वेलफेयर फाउंडेशन और भी कई कार्यक्रम संचालित करती है जैसे कि 10वीं, 11वीं और 12वीं के छात्र-छात्राओं के लिए राज्य शैक्षणिक अनुसंधान केन्द्र (SCERT) और विभिन्न जिला शिक्षा कार्यालय के साथ मिलकर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में करियर मार्गदर्शन कार्यक्रम का आयोजन किया जा चुका है। करियर मार्गदर्शन कार्यक्रम में अब तक रायपुर, धमतरी, राजनांदगांव, कबीरधाम और बलौदाबाजार जिले में विशेषरूप से ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 30 से भी अधिक कार्यक्रम आयोजित करते हुए लाखों बच्चों को बेहतर करियर के लिए आवश्यक जानकारियां मुहैया कराई गईं हैं जिसका फायदा शहरों के साथ ही ग्रामीण छात्र-छात्राओं को भी हुआ है।
About Program
How We Conduct

क्या है करियर मार्गदर्शन कार्यक्रम- विद्वान वेलफेयर फाउंडेशन द्वारा 10वीं, 11वीं और 12वीं के छात्र-छात्राओं के लिए करियर काउंसलिंग कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। जिसमें राज्य और देश के बेहतरीन शिक्षाविदों द्वारा विद्यार्थियों को विषय चयन, कोर्स, शैक्षणिक संस्थान और रोजगार के अवसर पर महत्वपूर्ण और आवश्यक जानकारियां दी जाती हैं। इसके साथ ही स्कूल-कॉलेज की परीक्षाओं में बेहतर प्रदर्शन के टिप्स के अलावा व्यक्तित्व विकास के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां दी जाती हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन राज्य शैक्षणिक अनुसंधान केन्द्र (SCERT) और राज्य के विभिन्न जिला शिक्षा कार्यालय के साथ मिलकर किया जाता है। करियर मार्गदर्शन कार्यक्रम में अब तक रायपुर, धमतरी और राजनांदगांव जिले में करीब 30 से भी अधिक कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं जिसमें लगभग 50 हजार बच्चों को बेहतर करियर के लिए आवश्यक जानकारियां मुहैया कराई गईं हैं। इस कार्यक्रम को विशेषरूप से ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले बच्चों को ध्यान में रखकर बनाया गया है, जिसमें सिर्फ बच्चों को किताबी ज्ञान नहीं दिया जाता बल्कि व्यक्तित्व विकास और नैतिकता का पाठ भी पढ़ाया जाता है। इसके लिए इस आयोजन में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को प्रेरणादायक हिंदी फिल्म आई एम कलाम भी दिखाई जाती है।

फिल्म- आई एम कलाम क्यों दिखाई जाती है?
कई अध्ययनों से यह स्पष्ट हुआ है कि मानव मस्तिष्क में पढ़ी, लिखी या सुनी हुई चीजों से ज्यादा देखी हुई चीजें ज्यादा समय तक याद रहती हैं। इसलिए किसी फिल्म के संवाद, नायक का व्यक्तित्व, जीवन की कठिन चुनौतियां और उनका मुकाबला करते हुए नायक को देखकर व्यक्ति ज्यादा प्रभावित होता है। इसलिए प्रेरणादायक फिल्में मनोरंजन के साथ ही शिक्षा भी देती हैं। आई एम कलाम फिल्म, एक गरीब बच्चे की कहानी पर आधारित है। जिसमें वो नन्हा बच्चा जो कि प्रतिभावान तो रहता है लेकिन गरीबी के चलते कई परेशानियों का सामना करता है। आगे चलकर अपने सीखने और आगे पढ़ने की ललक के चलते वह अपना नाम छोटू से कलाम रख लेता है। फिर आगे कई चुनौतियों का सामना करते हुए एक मुकाम तक पहुंचता है। इस लोकप्रिय फिल्म से दर्शक बच्चे आत्मविश्वास, चुनौतियों का मुकाबला और हमेशा आगे बढ़ने का जज्बा सिखते हैं।
How We Conduct
History

क्र. जिला कुल आयोजन कुल लाभान्वित विद्यार्थी शिक्षाविद् विशेष अतिथी
1. रायपुर 10 15,000 डॉ. जवाहर सुरी शेट्टी श्री बृजमोहन अग्रवाल जी (कैबिनेट मंत्री, छ.ग. शासन)
2. धमतरी 10 18,000 हरप्रीत ढ़ोडी श्री अजय चंद्राकर जी (कैबिनेट मंत्री, छ.ग. शासन)
3. राजनांदगांव 10 17,000 हरप्रीत ढ़ोडी / इतिश्री मिश्रा श्री मधुसूदन जी (पूर्व सांसद, राजनांदगांव लोकसभा)
कुल 30 50,000
History